Hindi Shayari By Girl's

Love Shayari By Girlfriend,Love Shayari By Girl’s,

Love Shayari By Girl’s– Here many and latest and top Hindi Love shayari By girl’s. Love Shayari By Girlfriend

Romantic Love Hindi Shayari by Girl’s

हद से चल आज गुज़र चलते है ,
चाहतों के दिए में चल दोनों जलते है ,
हो कर आज इस कदर एक दूसरे के
इस दुनिया को चल भूल चलते है .

True Love Hindi Shayari By Girl’s

तुझको अपनी रूह में उतार लून ,
खुद को तेरी चाहत में सवार लून ,
नही चाइये मुझे इस दुनिया से कुछ और
बस एक मिल जाये तो अपनी ज़िन्दगी गुज़ार लून .

मई ‘गलती’ करुँ तब भी मुझे
‘सीने’ से लगा ले,
तू मुझे ऐसे चाहिए, जो मेरा हर
‘नखरा’ उठा ले !

Most Romantic Love Shayari in Hindi By Girlfriend

एक तेरा साथ न हो हमदम तो क्या जीना ,
तुझ से बात न हो हमदम तो क्या जीना ,
बनाया है तुमको अपने दिल की धड़कन
अगर तुम्ही दिल के पास न हो तो क्या जीना .

Heart Touching Love Shayari By Girlfriend

दिल की इतनी सी बात को आज कहना है ,
धड़कन बन के हमे तेरे दिल में रहना है ,
कल कभी रुक न जाये मेरी साँसे
इसलिए हर पल को तेरे साथ जीना है .

Special Love Hindi Shayari For Girl’s

हसना है हमे अपनी ख़ुशी तुम्हे बना के ,
चाहना है हमे अपनी ख्वाहिश तुम्हे बना के ,
हम नहीं जी सकते बिन तुम्हारे एक पल भी
हमे जीना है तो अपनी जिंदगी तुम्हे बना के .

Very Romantic Love Shayari In Hindi for boyfriend

मोहब्बत को हद से गुज़र जाने देना आज ,
रोकना न मुझ तुझ पे बिखर जाने देना आज ,
में हो जाना चाहती हु बस एक तेरी
मुझ तेरी बाँहों में सिमट जाने देना आज …

Best Hindi Love Shayari By Girlfriend

कुर्बान है तुझ पे हर ख़ुशी हमारी ,
ख्वाइशें हमारी और तमन्ना हमारी ,
हमे और कुछ नहीं चाहिए बस तुम्हारे सिवा
क्योकि तुम ही हो हमारी जिंदगी और जीने की वजहा हमारी .

Real Hindi Love Shayari by girl’s

हमे आदत हो गई है तुम्हारी इस तरह ,
की दिल करता है तुमको खुद में बसा ले ,
बना के तुम्हे अपने जीने की वजह
अपने दिल की धड़कन अपनी साँसे तुम्हे बना ले .

” यु ही मैं मुस्कुराह लेती हु खुद ही
ख़ुद में,
कभी मैं नहीं इश्क़ से रूबरू हुयी थी
यही सोचकर “

“हज़ारो रस्ते है मगर वो मोड़
नहीं,
ए ख्वाइशे ही तो थी , इन्हे निगाह
कहा “

मुश्किल भी तुम हो,
हल भी तुम हो,
होती है जो सिने में,
वो हलचल भी तुम हो..

ख़ुशी की तलाश मैं रोजाना करतीं हू
वो मुझे
कभी अपनों में तो कभी दोस्तों में मिली

मैं एवरेस्ट का शिखर नहीं,,,,जो
तुम मुझे फ़तेह कर जाओंगे,,,, मैं
प्रशांत की गहराई हू,, जो उतरोगे तो
पाओगे,,,, मैं मणिकर्णिका घाट नहीं
जो दे- दू- यु -ही मोक्ष तुम्हे ,,,मैं
विश्वनाथ की गलिया हू,खो
जाओगे तो पाओगे

मैं तुम्हारी धड़कन हूँ तो उसकी पहचान
हो तुम
मैं तुम्हारी इज्जत हूँ तो तू मेरी आन-बान
और शान हो तुम

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close